रविवार, मई 01, 2005

majadaar kahaani

मज़ेदार कहानी
कल रात को मेरी सहेली कैरलाईन मैं और अपने दोस्तों के लिए भारतीय खाना पकाने की कोशिश किया। जब वह स्प्रिंग की छुटटी में घर गई तब उसने मटर पानीर ‘पेकग’ में करीदा। कैरलाईन मटर पानीर में पानी डाला, उबाला और फ़िर चवल उबाला। अफ़सोस है, सब खाना बहुँत बुरा था। चावल बहुंत अधपडा था और मटर पानीर कुत्ते के खाना जेसा था, लेकिन हम सब खाना खा गया और हम ने कहा, “कैरलाईन, खाना बहुँत अच्छा है। भोजन के बाद मैं और बेन और खाना के लिए रेस्तरांत गए।

1 Comments:

Blogger Tarun said...

बहुत अच्‍छी कोशिश है हिंदी लिखने की।

8:58 pm  

एक टिप्पणी भेजें

<< Home